More Details



शाईस्ताखान मरते मरते बच गया। बाद में ३१ साल जिंदा रहा, पर उसकी टूटू उंगलियां हर काम में उसे शिवाजी महाराज की याद दिलाती रही

More in category